Skip to main content

नाले में गिरते लोग कुम्भकर्णी नीद में रांची नगर निगम अधिकारी

रांची, 07.10.2021 – कल रात दुर्घटना को आमंत्रण देती इसी खुले नाले में बाइक सवार गिर पड़े. सूत्रों के अनुसार एक गाड़ी से टक्कर लगने के बाद बाइक सवार इस खुले नाले में गिर गये. गनीमत यह रही कि किसी को गंभीर चोट नही लगी. इस घटना की सुचना एक प्रत्यक्षदर्शी ने फ़ाइनल जस्टिस के कार्यालय में हमें फोन के द्वारा दी. यह पुलिया अपर बाज़ार में बरालाल स्ट्रीट के पश्चिम में स्थित है. जहाँ ट्रेफिक का दवाब बहुत ज्यादा रहता है. इस  पुलिया में किनारे में सेफ्टी गार्ड नहीं बना होने के कारण अक्सर यहाँ दुर्घटना होते रहता है. इसी पुलिया से छोटे ही नही बल्कि बड़े वाहनों का भी आवागमन भारी संख्या में होता है| आप देख सकते हैं कि इस पुलिया के किनारे  बचाव का कोई पुख्ता इंतजाम नही किया गया है. इस ओर रांची नगर निगम के अधिकारियों की अनदेखी समझ से परे है..?

इस घटना के सम्बन्ध में वार्ड 20 के वार्ड पार्षद से आज बातचीत की गयी, इस दौरान उन्होंने जल्द से जल्द इस असुविधा को दूर करने की बात कही है. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि पहले यह क्षेत्र उनके वार्ड के अंतर्गत नहीं आती थी. साथ ही उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि वे जल्द ही इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाएंगे. फ़ाइनल जस्टिस की पूरी टीम उक्त प्रत्यक्षदर्शी का धन्यवाद व्यक्त करती है कि उन्होंने हमारा ध्यान उस ओर आकृष्ट किया तथा एक नागरिक का फ़र्ज़ निभाया. सुरक्षित रहें स्वस्थ्य रहें


 

Comments

Popular posts from this blog

इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

 07.06.2022 - इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ. कई लोग अपने दिन की शुरूआत चाय और कॉफी से करना पसंद करते हैं। खासकर, चाय में तो कई तरह के फ्लेवर मौजूद हैं। किसी को ग्रीन टी पसंद है तो कोई कड़क चाय या नींबू की चाय का जायका लेना पसंद करता है। वहीं, इलायची की चाय पीने वालों की भी कमी नहीं है क्योंकि इस चाय का सेवन कई तरह के स्वास्थ्य लाभ देने में सक्षम है। आइए इस चाय को बनाने का तरीका और इसके फायदे जानें। इलायची की चाय बनाने का तरीका सामग्री: तीन-चार हरी इलायची या आधा चम्मच हरी इलायची का पाउडर, एक कप पानी, एक चौथाई चम्मच चायपत्ती, थोड़ा सा दूध (वैकल्पिक) और शहद (स्वादानुसार)। चाय बनाने का तरीका: सबसे पहले एक पैन में पानी को गर्म करें, फिर उसमें चायपत्ती डालें और जब पानी में उबाला आ जाए तो कूटी हरी इलायची या फिर हरी इलायची का पाउडर और दूध डालकर फिर से उबालें। अब चाय को एक कप में छानकर डालें और इसमें शहद मिलाकर इसका सेवन करें। पाचन को दुरुस्त रखने में है सहायक इलायची की चाय का सेवन पाचन क्रिया के लिए बहुत फायदेमंद होती है। एक शोध में इस बात का जिक्र मिलता है कि इलायची की चाय

‘आप’ के डाॅ. अजय कुमार ने एक साल आठ दिन के बाद फिर पकड़ लिया कांग्रेस का हाथ... दस साल में चौथी बार पार्टी बदली

आईपीएस से नेता बने डाॅ. अजय कुमार ने फिर पाला बदल लिया है। लाेकसभा चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी (आप) में शामिल हाेने वाले डाॅ. अजय रविवार काे कांग्रेस में लाैट आए। कांग्रेस अध्यक्ष साेनिया गांधी की सहमति के बाद पार्टी में उनकी वापसी हुई। वर्ष 2011 में झाविमाे से राजनीतिक पारी की शुरुआत करने वाले डाॅ. अजय की यह चाैथी राजनीतिक पारी है। डाॅ. अजय ने भास्कर से कहा-देश में बेराेजगारी बढ़ गई है। आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। चीन भारत काे असुरक्षित बना रहा है। काेराेना की स्थिति विस्फाेटक है। मेरा मानना है कि कांग्रेस ही इन चुनाैतियाें का सामना करने में सक्षम है। कांग्रेस की विचारधारा सर्वाेत्तम है। इन्हीं चीजाें काे देखकर कांग्रेस में लौटा। यूं बदलती रहीं तस्वीरें... झाविमो से पारी की शुरुआत की, फिर कांग्रेस और आप में गए थे झाविमो से पारी की शुरुआत की 2010 में राजनीतिक पारी की शुरुआत बाबूलाल मरांडी की पार्टी झाविमो से की। 2011 में जमशेदपुर लाेकसभा से मध्यावधि चुनाव जीत गए। 2014 में पार्टी के टिकट पर फिर लड़े, हार गए। 2014 में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाए गए 2014 में कांग्रेस क

शौचालयों से ही समृद्धि संभव

  गजेंद्र सिंह शेखावत – हाल ही में सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हुई। बिना चप्पल यानि नंगे पांव आदिवासी पोशाक पहने 72 वर्षीय पद्म से सम्मानित तुलसी गौड़ा की सोशल मीडिया में छाई हुई तस्वीर ने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा। उस तस्वीर ने अकेले ही उन चैंपियनों को पुरस्कृत करने की सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया, जो समाज में जमीनी स्तर पर अपना योगदान दे रहे हैं और सहज रूप से सुर्खियों से दूर रहकर साधु जैसी एकाग्रता के साथ चुपचाप अपना काम करते हैं। इसी तरह की एक तस्वीर 2016 में भी वायरल हुई थी। वह माननीय प्रधानमंत्री की 105 वर्षीय कुंवर बाई को नमन करते हुए तस्वीर थी। कुंवर बाई ने अपने गांव में शौचालय बनाने के लिए 10 बकरियां और अपनी अधिकांश संपत्ति बेच दी थी। इस किस्म के दृश्य संख्या और आंकड़ों के मामले में हमारी उपलब्धियों के समान ही मर्मस्पर्शी और जश्न मनाने लायक हैं। जब भारत ने 108 मिलियन शौचालयों का निर्माण कर खुले में शौच से मुक्त का दर्जा हासिल किया तो यह कुंवर बाई की उतनी ही जीत थी, जितनी माननीय प्रधानमंत्री की। चैंपियन हमेशा सरकार की नीतियों के सह-उत्पाद नहीं होते, बल्कि कभी-कभी